Wednesday, 31 October 2012








                  "आखिर हम किताबें क्यों पढ़ते हैं?
          कुछ सीखने के लिए, दिल बहलाने के लिए, अपने मानसिक
                  संसार के लिए...सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि और भी बहुत कुछ
                  पाने के लिए!"
                                                       ---जवाहरलाल नेहरू

No comments:

Post a Comment